रविवार, 14 मार्च 2021

246. एक और 'सिल्वर जुबली'


     

      हमारी रजत-जयन्ती 25 जनवरी को थी और श्रीमतीजी की छोटी बहन (जाहिर है- मेरी साली साहिबा) की रजत-जयन्ती थी बीते 9 मार्च को। 


 

       हम श्रीमतीजी के साथ 24 घण्टों की रेलयात्रा करके गाजियाबाद उतरे, फिर वहाँ से ग्रेटर नोयडा गये और फिर वहाँ से साले साहब और सासु माँ के साथ मुरादाबाद के पास एक छोटे-से गाँव में पहुँचे- कहने की जरूरत नहीं, हमें इस गाँव का माहौल बहुत पसन्द है।



 

 (भले इन लोगों ने काशीपुर में भी अपना घर बनवा लिया है- शहरी ढंग का, पर हमें यह गाँव वाला घर ही पसन्द है। अच्छा रहा कि यह कार्यक्रम यहीं आयोजित किया गया।)



 

       जिसने भी यह प्रथा बनायी है- विवाह की 25वीं, 50वीं और 60वीं सालगिरह को खास ढंग से मनाने और अपने युवा बच्चों के सामने "विवाह का नवीणीकरण करने" की, उसकी हम प्रशंसा करते हैं।

       ज्यादा कुछ कहने की जरूरत नहीं, कुछ तस्वीरें और विडियो प्रस्तुत हैं- इनमें लोगों के चेहरे की मुस्कुराहट और हँसी ही इस मौके के नैसर्गिक आनन्द को व्यक्त करने के लिए काफी है।

 


 





 

अन्त में, एक तस्वीर, जो हम्हीं ने खींची और हम्हीं को पसन्द आयी- 


***


शनिवार, 6 मार्च 2021

245. मेरा "वर्क-आउट"

       सबसे पहले तो हम भारतीय वायु सेना के प्रति आभार व्यक्त करेंगे और फिर वहाँ जो खेल-कूद की सुविधाएं उपलब्ध हैं, उसकी प्रशंसा करना चाहेंगे। हम वायु सेना में न गये होते, तो जीवन में कभी स्वीमिंग पूल देखना भी नसीब होता कि नहीं- सन्देह है।

       खेल-कूद, कसरत और योगासन वगैरह में हम रूचि बचपन से रखते थे, इसलिए अवसर मिलते ही हम वायु सेना की तैराकी में शामिल हो गये थे। बहुत जमकर कसरत वगैरह करते थे और बहुत लगन से तैराकी सीखते थे। '88, '89, '90 में मेण्टेनेन्स कमाण्ड की ओर से और '94 '95 में सेण्ट्रल एयर कमाण्ड की ओर से हमने वायु सेना की एक्वेटिक्स चैम्पियनशिप में भाग लिया था। हम तैराकी के चारों स्ट्रोक की प्रतियोगिता में उतरते थे- 200 मीटर की बटरफ्लाई, 400 मीटर की इण्डिविजुअल मेडले और 1500 मीटर की फ्रीस्टाईल सहित- जिन्हें कि सबसे मुश्किल इवेण्ट माना जाता है। वाटर-पोलो के हर मैच का चारों क्वार्टर हम लगातार खेलते थे- एकाध मिनट का भी ब्रेक या रेस्ट हमें नहीं लेने दिया जाता था- कोच को इतना भरोसा था मेरे स्टामिना पर। अन्तिम चैम्पियनशिप में तो कोच ने- मेरे शरीर की लोच- फ्लेक्सिबिलिटी- को देखते हुए- हमसे डाइविंग तक करा लिया था- जबकि मेरी उम्र तब 25 से ऊपर हो गयी थी और ऊँचाई से हमें थोड़ा डर भी लगता था!

वहाँ की कुछ विशेष यादें फिर कभी।

       ***

       अभी जो कहना है, वह यह है कि हम फिलहाल जो फ्री-हैण्ड एक्सरसाईज (वर्क-आउट) करते हैं, उनमें ज्यादातर वायु सेना के स्वीमिंग कैम्प में सीखे हुए एक्सरसाईज ही हैं- कुछ हमने बाद में जोड़े हैं। मेरा वर्क-आउट करीब 40-45 मिनट का होता है, जिसमें 20 मिनट का "वार्मिंग-अप", 20 मिनट की "फ्री हैण्ड एक्सरसाईज" और 5 मिनट का "रिलैक्सेशन" होता है। मेरा यह वर्क-आउट सप्ताह में तीन-चार दिनों का होता था और हम रात खाना खाने से पहले कसरत करते थे, (सुबह हम योगासन करना पसन्द करते हैं- स्नान के बाद) लेकिन बीते कुछ दिनों से कुछ दोस्तों के साथ एक्सरसाईज कर रहे हैं और उनके कहने पर प्रतिदिन सुबह हम यह कर रहे हैं।

       घर पर वार्म-अप के रूप में हम सिर्फ स्किपिंग करते थे- 5000 स्टेप्स लगभग 20 मिनट में। समूह में यह बोरिंग हो जायेगा, इसलिए अभी दोस्तों के साथ वर्क-आउट करते समय हम 15 मिनट ऐरोबिक्स के स्टेप्स करते हैं और 5 मिनट स्किपिंग।

       तो वर्क-आउट कुछ ऐसा बनता है-

 

1.    वार्म-अप- 100 कदम वाकिंग, ऐरोबिक्स के कुछ बेसिक स्टेप्स, 100 कदम स्किपिंग और कुछ जम्पिंग एक्सरसाईज

2.       पैरों के लिए कसरत

3.       कमर के लिए कसरत

4.       हाथों का वार्म-अप

5.       हाथों पर वजन डालने वाली कसरत

6.       पेट और पीठ के लिए कसरत (बैठकर)

7.       रिलैक्सेशन

 

       ज्यादातर कसरत 8-8 बार दुहराते हैं- जो कठिन हैं, उन्हें 4 बार।

       विडियो में 'ट्रंक-रोटेशन' की एक कसरत छूट गयी है।

विडियो यह रहा-

 


      

एक खास बात- हमने एक वेबसाइट से कुछ MP3 म्युजिक भी डाउनलोड किये हैं- समूह में वर्क-आउट के लिए। उसे हमने अपनी ड्राइव में रखा है। आप चाहें, तो यहाँ क्लिक करके डाउनलोड कर सकते हैं।

       ***

***

       नोट- 10 मिनट के इस विडियो को अपलोड करने में इतने पापड़ बेलने पड़े कि 'उच्च तकनीक' से वैराग्य पैदा हो गया मन में!  

        पुनश्च- 

बाद में जाना कि VLC Media Player में Media- Stream में जाकर किसी विडियो को Add करके Stream बटन पर क्लिक करके फिर Destination Setup पर क्लिक करके जहाँ जिस नाम से फाइल सेव करनी है, वह नाम-पता डालकर (बेशक, Browse पर क्लिक करके) Profile सेक्शन में बने "स्पैनर" वाले चिह्न पर क्लिक करके Video Codec के अन्तर्गत Width को 720 करके और Audio Codec में keep original sound track वाले बॉक्स को चेक करके ('टिक' लगाकर) Save करना होता है और अन्त में, Stream बटन पर क्लिक करना होता है- इससे 1280 x  720 रिजॉल्युशन का विडियो 720 x 406 रिजॉल्युशन का बन जाता है।