गुरुवार, 4 अप्रैल 2013

45. नन्हा "रियाज़"


ये हैं नन्हें "रियाज़". 
इनका बहुत सारा वक्त हमारे घर में बीतता है, और हम भी (खासकर, मेरी श्रीमतीजी) इसे देखे बिना ज्यादा देर तक नहीं रह सकते. 
यह तस्वीर होली की शाम की है- इसलिए जनाब के गालों पर थोड़ा-सा अबीर लगा हुआ है. 
*** 


उसी शाम हमारी भी एक तस्वीर. 

*** 
पुनश्च: 26 अप्रैल 2013 
शिवम मिश्रा जी, जैसा कि मैंने (टिप्पणी में) कहा था- आज एक ग्रुप फोटो पोस्ट कर रहा हूँ- 






3 टिप्‍पणियां:

  1. आज की ब्लॉग बुलेटिन छत्रपति शिवाजी महाराज की जय - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह आज तो भैया जी जोड़े से दर्शन दिये है ... ;)

    जय हो !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वो तो शाम ढल गयी थी, रोशनी कम थी, इसलिए थोड़ी धुँधली तस्वीर है (हमारी वाली)...
      कभी अच्छी रोशनी में कोई तस्वीर कभी खींची, तो फिर यहीं पोस्ट करूँगा.

      हटाएं