शुक्रवार, 4 मार्च 2011

रक्तदान (...और अभिमन्यु का जन्म)


पहला रक्तदान
      जहाँ तक याद है, यह 92-93 की सर्दियों की बात है। ग्वालियर के सेना अस्पताल में हम लगभग दस वायुसैनिक पहुँचे थे रक्तदान के लिए।
मध्यरात्रि का समय था।
पोद्दार को दिल्ली ले जाने के लिए ए.एन.-32 विमान आनेवाला था और विमान में भी उसे रक्त चढ़ाना जारी रखना था। मात्र तीन बोतल बी-पॉजीटिव रक्त की जरूरत थी, जबकि देने वाले दस पहुँच गये थे। वायु सेना के सिक क्वार्टर्स में चूँकि रक्त निकालने की सुविधा नहीं थी, इसलिए हमें एम.एच. (आर्मी अस्पताल) लाया गया था।
      दो वायुसैनिक रक्त देकर लौटे, तब तक मैं चुप बैठा था। मुझे खून देखकर डर लगता था और इस डर को मिटाने के लिए ही मैं रक्तदान के लिए आया था। जब तीसरे वायुसैनिक रक्तदान के लिए जाने लगे, तब मैंने उन्हें रोका और अपनी बात बतायी।
      वे हँसने लगे। वे एक सीनियर कॉर्पोरल थे- लम्बे, गोरे और स्मार्ट। बोले, भाई, मैं नौ बार रक्तदान कर चुका हूँ और आज इस संख्या को दहाई में पहुँचाने का मेरा इरादा था। लेकिन अब तुम ही जाओ।
      अन्दर जाकर मैंने आर्मी के मेडिकल असिस्टैण्ट को भी अपनी बात बतायी। वे बोले, डर लगता है तो छोड़िये। यहाँ तो कई लोग मौजूद हैं।
      मैंने कहा, मुझे इस डर को ही तो मिटाना है।
      खैर, रक्तदान के दौरान तो कुछ नहीं हुआ, मगर रक्तदान के बाद क्षण भर के लिए मुझे चक्कर जरूर आ गया। हुआ यूँ कि सूई निकालने के बाद मुझे हाथ को केहुनी से मोड़कर दबाकर रखने के लिए कहा गया, मगर मैंने इस निर्देश को गम्भीरता से नहीं लिया। हाथ मोड़कर हल्के-से मैंने कुछ देर दबाये रखा और फिर हाथ को सीधा कर दिया।
      फिर क्या था- जहाँ से खून लिया गया था, वहाँ से रक्त की एक धारा निकल पड़ी और खून बहता देख मैं क्षणभर के लिए लड़खड़ा गया।
      मुझे तुरन्त लिटाया गया, बेल्ट ढीली की गयी, जूते उतार दिये गये, बाद में एक ग्लास ग्लूकोज भी दिया गया। हालाँकि यह सब गैर-जरूरी था। एक-दो सेकेण्ड के बाद ही मैं सामान्य हो गया था।

दूसरा रक्तदान
      दूसरा रक्तदान भी मैंने ग्वालियर के सेना अस्पताल में ही जाकर किया, मगर यह आपातकालीन परिस्थिति नहीं थी।
यह कोई रक्तदान शिविर था।
      सुबह का खुशनुमा माहौल था। हम चार-पाँच वायुसैनिक साइकिल चलाते हुए शिविर तक आये थे और बहुत ही खुशी-खुशी हमने रक्तदान किया।
एक आर्मी अधिकारी ने टिप्पणी भी की- क्या बात है, ये एयर फोर्स वाले तो बड़े हँस-हँस कर ब्लड डोनेट कर रहे हैं...।
रक्तदान के बाद मजे से साइकिल चलाते हुए हम वापस लौटे थे।

तीसरा रक्तदान
      तीसरे रक्तदान का मौका 96-97 में मिला।
      मैं हलवारा (लुधियाना के पास) में था। एक एक्स-सार्जेण्ट की पत्नी का लुधियाना के कैन्सर अस्पताल में ऑपरेशन हुआ था, दो बोतल खून चढ़ाया जा चुका था, अब अगले दिन बदले में दो बोतल खून जमा करना था।
      हम दो वायुसैनिक (दूसरे वरिष्ठ थे- जे.डब्ल्यू.ओ.) उन एक्स-सार्जेण्ट के साथ कैन्सर अस्पताल पहुँचे।
      अब मैं विवाहित था और इस बार मुझे श्रीमतीजी का डर दूर करना था, सो उन्हें लेकर मैं गया था।
      दरवाजे में लगे शीशे से वे मुझे रक्तदान करते हुए देखती रहीं।
      बाहर आकर मैंने कहा, देखा, यह कुछ भी नहीं था।
***
      श्रीमतीजी ने अगली छुट्टियों में घर में इस बात का जिक्र कर दिया।
पता नहीं, माँ पर क्या असर हुआ, मगर पिताजी ने बुलाकर मुलामियत से कहा- ज्यादा रक्तदान मत करो।

चौथा रक्तदान और अभिमन्यु का जन्म
      मेरा चौथा (और अब तक का अन्तिम) रक्तदान सिर्फ आधे बोतल खून का था, मगर यही रक्तदान सबसे महत्वपूर्ण रहा।
      श्रीमतीजी हलवारा में ही वायु सेना अस्पताल में भर्ती थीं।
97 के नवम्बर की बात है।
अचानक टेलीफोन द्वारा मुझे खबर दी जाती है कि ‘सीजेरियन’ ऑपरेशन करना होगा, ए-पॉजीटिव खून की व्यवस्था करनी है।
मैं सेक्शन से श्री एस. सिंह को साथ लेकर अस्पताल पहुँचा, उनका ब्लड ग्रुप ए-पॉजीटिव था।
      श्री एस. सिंह के खून की जाँच के लिए हम लैब में गये, वहाँ देखा, मेडिकल असिस्टैण्ट एक महिला का रक्त लेने की व्यवस्था कर रहे हैं। मैंने उस महिला को पहचाना- वे वार्ड में मेरी पत्नी के बगल वाले बेड पर थीं। उनका सात दिन का नवजात शिशु था, जिसे ‘इंक्युबेटर’ (ट्यूब-लाईट की रोशनी में) में रखा गया था। जन्म से पीलिया होने पर ऐसा करते हैं शायद।
      वे आर्मी के एक जवान की पत्नी थीं। जवान को छुट्टी नहीं मिली थी, मगर जवान की माँ, अर्थात् नवजात की दादी माँ जरूर अस्पताल में मौजूद थीं।
      मैंने कहा, इनका तो छोटा-सा बच्चा है न?
      हाँ, मेडिकल असिस्टैण्ट ने बताया, इन्हीं के बच्चे के लिए आधा बोतल खून लेना है, ...कोई फर्क नहीं पड़ेगा।
      मगर मुझे फर्क पड़ा। 
कौन-सा ग्रुप चाहिए? मैंने पूछा।
      बी-पॉजीटिव।उत्तर आया
      मेरी जान-में-जान आयी। मैंने कहा, मेरा खून ले लीजिये- बी-पॉजीटिव है, इन्हें जाने दीजिये।
      क्या बात करते हैं, आप खुद अपनी पत्नी के ऑपरेशन को लेकर परेशान हैंमेडिकल असिस्टैण्ट का कहना था
      आधे बोतल खून से क्या फर्क पड़ता है... इस बार मैंने कहा
      इसके बाद के घटनाक्रम तेजी से घटे और बिलकुल अप्रत्याशित रहे।
      मेरा आधा बोतल खून उस सात दिनों के नन्हें बच्चे को चढ़ाया गया... बच्चे की दादी माँ ने गुरू नानकदेव जी का नाम लेकर मुझे आशीर्वाद देना शुरू कर दिया... अस्पताल का जेनरेटर खराब हो गया... मेरी पत्नी को ऑपरेशन थियेटर से बाहर निकाला गया... मेरी सासु माँ और मेरी मौसेरी बहन ने उन्हें जमकर मेथी के पराँठे खिला दिये... जेनरेटर ठीक हुआ... अंशु (मेरी पत्नी का नाम) को फिर बुलाया गया... लेडी डॉक्टर ने पूछा- कुछ खाया तो नहीं?... जाहिर है, उसदिन ऑपरेशन रद्द हो गया... ।
      ...अगले दिन अस्पताल की कोई और तकनीकी चीज खराब हो गयी... डॉक्टर (शायद श्रीमती झा नाम था) ने मुझे बुलाकर कहा- कुछ सामान थैले में डालो, हम जालन्धर एम.एच. जा रहे हैं... देर करना ठीक नहीं, तुरन्त ऑपरेशन होना चाहिए...
      जालन्धर मिलिटरी हॉस्पिटल काफी दूर था... एम्बुलैन्स में हम वहाँ पहुँचे... डॉ. झा ने अंशु को भर्ती करवाया... शाम तीन बज गये थे शायद... मैं एम्बुलैन्स में ही हलवारा लौट आया... अगले दिन वहाँ पहुँच कर पाया- सुबह ग्यारह बजे मेरे बेटे अभिमन्यु का जन्म हो चुका था!... नॉर्मल डिलिवरी... सीजेरियन ऑपरेशन की जरूरत नहीं पड़ी; सम्भवतः एम्बुलैन्स की लम्बी यात्रा ने ‘लेबर पेन’ शुरू करने में मदद की।
      (बेटे का नाम पहले से तय था। अगर बेटी होती, तो उसका भी नाम तय था- उत्तरा।)
      यह नवम्बर की तेरह तारीख थी।
     वार्ड से बाहर आते वक्त देखा- एक स्थान पर श्रद्धाभाव के साथ कौव्वाली चल रही है- मिलीटरी हॉस्पिटल के अन्दर!
मैंने आश्चर्य से पूछा, यहाँ क्या है?
      उत्तर मिला, यह पीर बाबा का मजार है, और आज वृहस्पतिवार है न!...
      ***
      बिजली की तरह पिछले दिनों की कुछ बातें मेरे दिमाग में कौंध गयी-
...विवाह के बाद से ही अंशु का कहना कि उसने सपने में पीर बाबा के मजार को देखा है और उसे किसी मजार पर जाना है...
...विवाह के बाद हम डेढ़-पौने-दो साल तेजपुर (आसाम) में रहे, वहाँ किसी पीर बाबा के मजार का न होना...
...हलवारा में वायुसेना स्थल जाने के रास्ते में ही एक पीर बाबा के मजार का होना, मगर हमारा वहाँ न जा पाना...
...अंशु को साँस लेने में तकलीफ... कई घण्टों तक उसे कृत्रिम ऑक्सीजन पर रखना... और उस दिन का वृहस्पतिवार होना... (हम किराये के एक रोशनदान-विहीन कमरे में रहते थे... हमारा सामान तेजपुर से पहुँचा नहीं था... भीषण गर्मी थी... कुल-मिलाकर हम बहुत कष्ट में थे...)
...अंशु को रक्तस्राव की शिकायत... हफ्ते भर का बेडरेस्ट... और उस दिन का भी वृहस्पतिवार होना...
...फिर एक वृहस्पतिवार को हमारा पीर बाबा के मजार पर जाना और उस दिन के बाद से तकलीफों का अन्त हो जाना...
...और आज मेरे बेटे का जन्म जालन्धर के मिलीटरी हॉस्पिटल में हुआ, जहाँ कि पीर बाबा का मजार है... और आज वृहस्पतिवार है... जमकर भक्ति से ओत-प्रोत कौव्वालियाँ चल रही हैं...
मैंने जाकर मत्था टेका।
बाहर से लड्डू लाकर मजार पर चढ़ाया। वार्ड में भी बाँटा।
जालन्धर से लौटते समय मेरी बस जाम में फँसी। कोई धार्मिक जुलूस था। मैंने पूछा- आज क्या है?
गुरू नानकदेव जी का जन्मदिन! उत्तर मिला।
***
हलवारा आने पर वृहस्पतिवार को हम अभिमन्यु को लेकर पीर बाबा के मजार पर गये। लोगों ने कहा- सात दिन के बच्चे को वहाँ मत ले जाओ, वह कब्रिस्तान है!
मगर हम लेकर गये... ठण्ड थी, अभिमन्यु को गर्म कपड़ों में हमने लपेट रखा था... उसे मजार के पायताने पर लिटाकर हमने प्रार्थना की- इसकी रक्षा तुम्हारे हाथों में है...
***
जालन्धर से अंशु और अभिमन्यु को लाते समय मैं प्रसिद्ध लवली स्वीट्स से ढेर सारे लड्डू ले आया था।
वायु सेना अस्पताल में जब लड्डू देने गया, तो एम.एन.एस. की चीफ (मलयाली थीं) मुस्कुरा कर बोलीं, स्वीट्स तो हम नहीं ले सकते, और फिर, डिलीवरी भी तो यहाँ नहीं हुई।
मैंने कहा, मैडम, ये लवली स्वीट्स के लड्डू हैं।
लवली स्वीट्स? वे फिर मुस्कुराकर बोलीं, फिर तो हम 'ना' भी नहीं कर सकते
***   ***   ***   

1 टिप्पणी:

  1. बहुत अच्छा , जयदीप जी आपने इन सब से अब तक महरूम रखा।, वैसे मैं भी 2004 से हर साल 15 sep को रक्तदान करता हू, 3 बार तो रश्मि ने किया है

    उत्तर देंहटाएं